Abraham Lincoln

Abraham LincolnAbraham_Lincoln

Presidential Number: 16th
Years he was President: 1861-1865
State Represented: Illinois
Party Affiliation: Republican
Fact(s): He had to struggle for a living. Lincoln’s mom died when he was 9. He loved to read.

Personal
Birthday: February 12, 1809
School(s) attended: Did not attend college, but read at home.
Wife: Mary Lincoln
Occupation(s) before he was President: Store clerk, rail-splitter, lawyer
Other way(s) he served: Congressman
Height: 6 feet 4 inches, tallest president
Favorite Foods: Fruit salad, cheese, crackers
Hobbies or Sports: Walking, wrestling
Pets: Horse

Life in America
How would he have traveled? Horse and carriage, train
How would he have communicated with his friends? Letter, telegram
U.S. Population when term began: 31,443,321
Number of stars on flag when he left office: 36

The Compelling Story of Abraham Lincoln…

President Abraham Lincoln – one of the most influential men in history. Click on picture to learn about him.

Abraham Lincoln was born on February 12, 1809 in a one-room log cabin, located on a farm near Hodgenville, Kentucky (a state that permitted slavery at the time).

When he was only nine years old, his mother, Nancy Hanks Lincoln, died. A year later, his father, Thomas Lincoln, remarried a woman named Sarah Bush, who had a tremendous influence on the young Abraham Lincoln.

To support his family, Abraham had to work at a neighboring farm. Working denied him the opportunity to go to school, so the total amount of formal education he received was less than one year.

Although his formal education ended very quickly, his self-education was just beginning. An avid reader, he read everything he could get his hands on, studying a variety of subjects, such as mathematics, literature and law. Eventually this self-educated man became a lawyer.

Lincoln had a very strong desire to make a difference, so he entered politics. In August, 1832, he finished eighth out of 13 in a race for the Illinois House of Representatives.

Abraham believed that the government should be a positive force, whose goal was to serve the people. He reasoned that in order for him to have significant influence and impact on the government, he must achieve a high position in government — preferably the position of the President of the United States. This goal eventually became his burning desire.

In 1834, while practicing law in a firm he had established with several partners, Lincoln ran for and won a seat in the Illinois Legislature. He served a four-year term, and he soon developed a reputation as a capable and honest politician.

Unfortunately, over the next decade he experienced numerous business and political setbacks. But unlike most people, Lincoln did not let any of these challenges — including a business and personal bankruptcy — discourage him from going after his dreams.

On November 4, 1842, he married Mary Todd Edwards, and they had four children over the next 12 years. In 1836, Lincoln won an election to Congress. It was during this time that he took an unpopular stand against President James K. Polk regarding the Mexican War. Abraham thought the war was unjust.

Because Lincoln’s viewpoints were so different from many other government officials, he became unpopular among them.

After his term ended in 1849, Lincoln took the next five years off from politics and focused on his law practice. Again, he encountered more business setbacks. But again, he persisted, and did not let “so-called” failures discourage him.

In 1854, he returned to the political arena. One of the first things he did was to oppose the Kansas-Nebraska Act, which threatened to extend slavery to other states.

In 1855, he ran for the Senate but was defeated. The next year he went after the Vice Presidency position, and was also defeated.

With so many failures, a lot of people, in Lincoln’s position, probably would have given up. But because he was determined and committed to make his political dreams come true, he would get up each time he was knocked down. He knew the only way to gain ground, to move forward, to march on, and to turn his goals into reality, was to learn from his setbacks and failures.

He Pressed On!

Finally, in 1860, Lincoln’s years of persistence and hard work paid off when he was elected the 16th President of the United States.

Sadly, at this time the states were no longer united. The South depended on slavery for its prosperity, so when the North opposed the extension of slavery into the new western states, the southern states broke away and formed their own union.

As the newly elected president, Lincoln decided that the original Union must be saved at all costs — even if it meant a civil war. In 1861, the Civil War began.

On November 19, 1863, on a battle field near Gettysburg, Pennsylvania, President Lincoln presented to the people his vision for a nation conceived in liberty, where everyone is created equal. This speech became known as the Gettysburg Address and it has shaped the destiny of the United States of America.

By the time the Civil War ended in 1865, after four long years, it had cost the lives of half a million Americans. But the Union was saved, the slaves were freed, and President Lincoln’s lifelong dream was realized.

On April 14, 1865, President Lincoln went with his wife to the Ford Theater in Washington, DC, to celebrate the end of the Civil War. Halfway through the play, John Wilkes Booth, an actor who resented the northern victory and the liberation of North America’s slaves, shot and killed President Lincoln.

Following Lincoln’s death, the Secretary of War, Edwin M. Stanton, declared: “Now he belongs to the ages.”

Today, the spirit of President Lincoln still lives in our memories and it continues to guide us toward creating a nation, and a world, where everyone is treated equally… regardless of our unique differences.

कृपया 10 मिनट का समय देकर इसे पढ़ें

दोस्तों,
कृपया 10 मिनट का समय देकर इसे पढ़ें.

अभी तो बात आएगी मंच पर बहस की, जिसकी की आगे के किसी भी चुनाव में जोर देकर मांग की जायेगी, तब ये अज्ञानी प्रवक्ता मंच पर जनता को क्या जवाब देंगे, सरकार हर साल लोगों से 134 प्रकार के टैक्स से कितना पैसा जमा कराती है और ये पैसे कहा खर्च हो जाते है? मंदिरों का पैसा सरकार किस मद में खर्च कराती है जिसे सिर्फ हिन्दू दान देकर इकठ्ठा करता है, ये बहुत बड़ा प्रश्न है.

काले धन का इतिहास क्या है, पहले कपिल सिब्बल ने कहा कोई भी नुकसान २ जी घोटाले में नहीं हुआ है, फिर अहलुवालिया ने कहा की हा वास्तव में कोई घोटाला नहीं हुआ है, फिर मनमोहन ने कहा इसकी जाँच चल रही है, विपक्ष को टालते रहे, राजा जैसा आदमी जिसके पास अपनी मोबाइल को टाप अप करने का पैसा नहीं हो, यदि वह अपनी पत्नी के नाम 3000 करोड़ रुपया मारीशश में जमा कर दे, क्या यह सब बिना सोनिया की जानकारी के कर सकता है, उस पार्टी में जहाँ पर बिना सोनिया के पूछे कोई वक्तव्य तथाकथित प्रवक्ता नहीं दे सकते है,

फिर आया महा घोटाला देवास-इसरो डील का जिसमे की 205000 करोड़ की बैंड विड्थ को मात्र 1200 करोड़ के 10 साल के उधार के पैसे में दे दिया गया, भला हो सुब्रमनियम स्वामी जी का जिन्हें इन चोरो को नंगा कर दिया, हमारी कांग्रेसी और विदेशी मिडिया सुब्रमनियम स्वामी की तस्वीर हमेशा से गलत पेश किया है जब की वास्तव में भारत देश को ऐसे ही इमानदार नेताओ की जरुरत है जिसने कभी भी चोरी के बारे में सोचा ही नहीं,

फिर आया कामनवेल्थ खेल का 90000 करोड़ का घोटाला, फिर कोयला का घोटाला जिसमे ठेकेदारों द्वारा 10 पैसे प्रति किलो के भाव से कोयला खरीदा जाता है और उसे बाजार में 4 रुपये किलो तक बेचा जाता है, यह रकम अब तक 26 लाख करोड़ होती है,

इटली के 8 बैंक और स्वीटजरलैंड के 4 बैंको को 2005 में भारत में क्यों खोला गया है और इसमे किसका पैसा जमा होता है, ये बैंक किसको लोन देते है और इनका ब्याज क्या है, इनकी जरुरत क्यों आ पड़ी भारत में जब की भारत के ही बैंकरों की बैंक खोलने की अर्जियाँ सरकार के पास धूल खा रही है, इन बैंको को चोरी छुपे क्यों खोला गया है, इन बैंको आवश्यकता क्यों है जब भारत में 80% लोग 20 रूपया प्रतिदिन से भी कम कमाते है.

भारत के किसानो से कमीशन लेने वाले चोर कत्रोची के बेटे को अंदमान दीप समूह में तेल की खुदाई का ठेका क्यों दिया गया 2005 में, किसने दिया ठेका, किसके कहने पर दिया ठेका, क्या वहा पर पहले से ही तेल के कुऊ का पता लगाकर वह स्थान इसे दे दिया गया जैसे की बहुत बार खबरों में अन्य संदर्भो में आती है, यह खबर क्यों छुपाई गयी अब तक, इसे देश को क्यों नहीं बताया गया, मिडिया क्यों इसे छुपा गई, और विपक्ष ने इसे मुद्दा क्यों नहीं बनाया.

सरकार ने पहले कहा की बाबा बकवास कर रहे है, काला धन नाम की कोई चीज नहीं है,

फिर खबर आयी की काला धन है और सबसे ज्यादा भारतीयों का है, यह स्विस बैंको के आलावा 70 और दुसरे देसों में जमा है,

सरकार ने कहा की टैक्स चोरी का मामला है, हम उन देशो से समझौते कर रहे है, जिससे की दोहरा कर न देना पड़े,

यह टैक्स चोरी नहीं भारत देशको लूट डालने का मामला है जिसकी सजा किसान से पूंछो तो सिर्फ मौत देना चाहता है वह भी सब कुछ वसूल लेने के बाद,

फिर बात आई की यदि ये भ्रष्टाचारी और लुटेरे इसमे से 15% टैक्स सरकार को दे तो इसे भारत के बैंको में जमा करने दिया जायेगा और किसी को यह हक़ नहीं होगा की वह पूछे की या इतना पैसा कैसे कमाया या लूटा. सरकार इस पर एक कानून ला रही है, क्यों? किसको बचाया जा रहा है? जिसने भी यह गद्दारी की है उसे तो भीड़ ही मार डालेगी,
इन्ही लोगो की वजह से भारत में इतनी महागायी है की लोग शादी खर्च से बचने के लिए बेटियों की जान ले ले रहे है, किसान आत्महत्या कर रहा ई, गरीब दवा नहीं करा रहा है, बच्चे स्कुल नहीं जा रहे है, इन्हें तो किसी कीमत पर नहीं छोड़ा जा सकता है, ये यूरिया घोटाला करते है और यूरिया किसान को दुगुने दाम बचा जाता है, फिर गेहू सस्ते में खरीदा जाता है, और अब तो घोटाला 115% हो जायेगा, 115 चुराओ, 15 सरकार को देकर 100 खुद रख लो.

हमारे देश में क्यों अनुसन्धान के लिए पर्याप्त पैसा नहीं दिया जाता है, यह कीसकी चाल है, जिसकी वजह से हम 5-10 गुना दाम में विदेशी चीजे खरीदते है,

ऐसे कौन से कारण है जिनके कारन हम नेहरू के द्वारा ट्रांसफर अफ पॉवर अग्रीमेंट 14 अगस्त 1947 को दस्तखत करने के बाद भी आज तक विक्सित नहीं बन पाए, जब की हमारी जनता हफ्ते में 90 घंटा काम करती है जबकि कामचोर अंग्रेज हफ्ते में सिर्फ 30 घंटा काम करते है,

क्या कारण है की हमारे 45 रुपये में 1 डालर और 90 रुपये में 1 पौंड मिलाता है, जब की 1947 में 1 रुपये में 1 डालर मिलता था.

क्या कारण है की हमारे देश में एक भी सोलर ऊर्जा वैज्ञानिक नहीं है और दुनिया भर के परमाणु वैज्ञानिक है जो हमें हमेशा झूठा अश्वाव्हन देते है की यह परमाणु बिजली सस्ती और निरापद है भारत की परमाणु से सम्बंधित कुल बाजार 750 लाख करोड़ का होगा. जब की हम भारत में 400000 मेगावाट सोलर बिजली बना सकते है,

हम अभी तक सुरक्षित अन्ना भण्डारण की व्यवस्था क्यों नहीं बना पाए जब की हमारे पास धन की कमी ही नहीं है, क्योकि अन्न को सडा दिखाकर उसे कौड़ियो के भाव शराब माफिया को बचा जाता है जब की गरीब अन्न के बिना मर रहा है, इसके लिए तो कोई एक व्यक्ति जिम्मेदार होगा, उसकी सजा क्या है,

मीडिया को निष्पक्ष बनाने के लिए सरकार क्या कदम उठा रही है, सभी भारतीयों को पता चल गया है की मिडिया , टीवी और पत्रिकाए सरकार को बिक चुकी है, बड़े शर्म की बात है, शाम को सिर्फ 4 रोटी खाने के लिए भारत माता से गद्दारी क्यों?

अगर देश में 2 लाख करोड़ रुपये की नकदी सर्कुलेशन में है तो देश की अर्थव्यवस्था करीब 100 लाख करोड़ रुपयों की होती है. और हमारे देश में रिजर्व बैंक अबतक लगभग 18 लाख करोड़ रुपयों के नोट छाप चुका है और कमसे कम 10 लाख करोड़ रुपये सर्कुलेशन में है. इस हिसाब से देश की अर्थव्यवस्था करीब 400 से 500 लाख करोड़ रुपये होनी चाहिए लेकिन अभी हमारी अर्थव्यवस्था केवल 60 लाख करोड़ की है. जबकि इतनी अर्थव्यवस्था के लिए दो लाख करोड़ से भी कम सर्कुलेशन मनी की जरूरत है.

अगर 400 लाख करोड़ रूपये का काला धन देश में वापिस आ जाता है तो देश की अर्थव्यवस्था करीब 20,000 लाख करोड़ रुपये होगी … क्या आप जानते हैं कि इस समय अमेरिका सबसे शक्तिशाली देश है और उसकी अर्थव्यवस्था करीब 650 लाख करोड़ की है… मतलब 400 लाख करोड़ रुपये वापिस मिलने पर हम अमरीका से भी 30 गुना ज्यादा शक्तिशाली बन सकते है.

दोस्तों,
स्वामी जी की टीम निरक्षरों की नहीं बल्कि बहुत पढ़ी लिखी, ज्ञानी, दानी, समर्पित, इमानदार और राष्ट्रप्रेमी टीम है, इसमे ज्यादातर इंजिनियर और आई टी के लोग जुड़े है,
इनमे कई लोग ऐसे भी हैं जो करोड़ों रुपयों की नौकरी और कारोबार छोड़कर
केवल देश के लिए स्वामी जी के साथ जुड़े हैं.

४ जून के बाद का समय सरकार के लिए इतना आसान नहीं होगा.

भारत को वैभव शाली बनाने के लिए सभी देशवासिओं के पूरे सहयोग और समर्थन की जरूरत है. इस सन्देश को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाए, स्वामी रामदेव जी के आन्दोलन को समर्थन देने के लिए फोन नंबर 022 33081122 एवं 022 61550789 पर मिस काल अवश्य करें
(मिस काल का कोई शुल्क नहीं लगेगा, एक घन्टी के बाद काल अपने आप ही कट जाएगा, तदोपरांत आपके फोन पर पुष्टिकरण संदेश आएगा |)

जय हिन्द |
जय भारत |